रोज़ा पू (वयस्क कहानी) : जयंती रंगनाथन